Underground Cable Classification and Types

आज के पोस्ट में हम जानेगे की केबल कितने प्रकार के होते है और उनका क्या प्रयोग है और भूमिगत केबल के लाभ और हानि के बारे में भी जानेगे

भूमिगत केबल किसे कहते है

जिन केबल को जमीन के नीचे स्थापित किया जाता है उन्हें भूमिगत केबल कहा जाता है , जिसका उपयोग बिजली या संचार संकेतों को प्रसारित करने के लिए किया जाता है। इसकी खासियत यह है की यह सुरक्षा, के साथ ही साथ जमीन के अंदर होने के कारण सुंदरता भी बानी रहती है और स्थान भी नहीं घेरती है जिसके वजह से शहरी क्षेत्रों में इसे काफी प्रयोग किया जाता है । ये केबल विशिष्ट प्रयोग और आवश्यकताओं के आधार पर वोल्टेज, निर्माण और इन्सुलेशन में भिन्न हो सकते हैं।

भूमिगत केबलों का वर्गीकरण

भूमिगत केबलों को उनके अनुप्रयोग, निर्माण और इन्सुलेशन सामग्री सहित विभिन्न मानदंडों के आधार पर वर्गीकृत किया जा सकता है। यहां कुछ सामान्य वर्गीकरण दिए गए हैं:

  • अनुप्रयोग के आधार पर
  • वोल्टेज स्तर के आधार पर
  • निर्माण के आधार पर
  • इन्सुलेशन प्रकार के आधार पर
  • संरक्षण के आधार पर
  • इंस्टॉलेशन विधि के आधार पर
  • अग्नि छमता के आधार पर

अनुप्रयोग के आधार पर (Types of Application)

अनुप्रयोग के आधार पर केबल दो प्रकार के होते है

पावर केबल (Power Cable)

Underground Power Cable

विद्युत शक्ति को वितरित करने के लिए इसको डिज़ाइन किया गया। इनका उपयोग आमतौर पर आवासीय, वाणिज्यिक और औद्योगिक क्षेत्रों में बिजली वितरण के लिए किया जाता है।

संचार केबल (Communication Cable)

Underground Communication Cable

सिग्नल और डेटा संचारित करने के लिए इसे बनाया जाता है। इस श्रेणी में टेलीफोन केबल, फाइबर ऑप्टिक केबल और डेटा संचार के लिए उपयोग की जाने वाली अन्य केबल शामिल हैं।

वोल्टेज के आधार पर

कम वोल्टेज (LV) केबल:
आमतौर पर आवासीय और वाणिज्यिक अनुप्रयोगों में 1 केवी तक के वोल्टेज के लिए उपयोग किया जाता है।
मध्यम वोल्टेज (MV) केबल:
1 केवी से 33 केवी तक के वोल्टेज के लिए डिज़ाइन किया गया है और आमतौर पर स्थानीय बिजली वितरण के लिए उपयोग किया जाता है।
उच्च वोल्टेज (HV) केबल:
33 केवी से ऊपर के वोल्टेज के लिए उपयोग किया जाता है। इन केबलों का उपयोग अक्सर लंबी दूरी की बिजली ट्रांसमिशन के लिए किया जाता है।
अत्यधिक उच्च तनाव (EHT)केबल:
66 केवी से ऊपर के वोल्टेज के लिए उपयोग किया जाता है।
अतिरिक्त सुपर वोल्टेज (XLPE) केबल:
इनका उपयोग 132 केवी से ऊपर वोल्टेज आवश्यकता वाले अनुप्रयोगों के लिए किया जाता है।

निर्माण के आधार पर

सिंगल-कोर केबल्स

Underground Single Core Cable

इसमें एक सिंगल कंडक्टर होता है जो इन्सुलेशन और अन्य परतों से घिरा होता है।

मल्टी-कोर केबल

Underground MultiCore Cable

एक ही इन्सुलेशन के भीतर कई कंडक्टर होते हैं, जिनका उपयोग अक्सर तीन-चरण बिजली प्रणालियों के लिए किया जाता है।

इन्सुलेशन प्रकार के आधार पर

पेपर-इंसुलेटेड केबल:

Paper Cover Underground Cable

ऐतिहासिक रूप से सामान्य, ये केबल इन्सुलेशन सामग्री के रूप में कागज का उपयोग करते हैं।
पॉलीमेरिक-इंसुलेटेड केबल्स:

Polymeric-Insulated Cables

इन्सुलेशन के लिए क्रॉस-लिंक्ड पॉलीथीन (एक्सएलपीई) या एथिलीन प्रोपलीन रबर (ईपीआर) जैसी सामग्री का उपयोग करते है। ये अपने बेहतर गुणों के कारण आधुनिक प्रतिष्ठानों में अधिक प्रयोग किये जाते हैं।
तेल-भरे केबल:

उच्च-वोल्टेज अनुप्रयोगों के लिए उपयोग किया जाता है, इन केबलों को उच्च कार्यछमता बढ़ाने के लिए इन्सुलेट तेल से भरा जाता है।

संरक्षण के आधार पर

स्क्रीनयुक्त या संरक्षित केबल

स्क्रीन वाली या परिरक्षित केबल में विद्युत चुम्बकीय हस्तक्षेप से सुरक्षा के लिए एक अतिरिक्त परत होती है, जो डेटा ट्रांसमिशन जैसे अनुप्रयोगों में सिग्नल एकाग्रता बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण है। संरक्षित धात्विक या अधात्विक हो सकता है।

अनस्क्रीन या बिना असंरक्षित केबल

एक बिना संरक्षित केबल में विद्युत चुम्बकीय इंटरफ़ेस (ईएमआई) या रेडियोफ्रीक्वेंसी इंटरफ़ेस (आरएफआई) से सुरक्षा के लिए एक अतिरिक्त परत का अभाव होता है। आमतौर पर कम जोखिम वाले अनुप्रयोगों में उपयोग किया जाता है जहां इसकी सादगी और कम लागत के कारण इंटरफ़ेस न्यूनतम होता है। हालाँकि, यह बाहरी हस्तक्षेप के प्रति अधिक संवेदनशील हो सकता है

इंस्टॉलेशन विधि के आधार पर

प्रत्यक्ष दफन केबल:
नाली या नलिकाओं के उपयोग के बिना सीधे भूमि में स्थापित किया जा सकता है ।

नलिकाओं या नाली में केबल:
अतिरिक्त यांत्रिक सुरक्षा और रखरखाव में आसानी प्रदान करने के लिए केबलों को सुरक्षात्मक नाली के भीतर रखा जाता है।

अग्नि छमता के आधार पर

अग्नि प्रतिरोधी केबल:
आग के दौरान कार्यक्षमता बनाए रखने के लिए डिज़ाइन किया गया है, जिसका उपयोग अक्सर आपातकालीन प्रकाश व्यवस्था और निकासी प्रणालियों जैसे महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों में किया जाता है।

गैर-अग्नि-प्रतिरोधी केबल:
विशिष्ट अग्नि-प्रतिरोधी गुणों के बिना मानक केबल।

केबल के प्रकार और अधिकतम कार्य तापमान

Cable TypeMax Operating Temperature
XLPE (Cross-Linked Polyethylene) Underground CablesUp to 90°C (194°F) or 105°C (221°F)
EPR (Ethylene Propylene Rubber) Underground CablesUp to 90°C (194°F) or 105°C (221°F)
MI (Mineral-Insulated) Underground CablesUp to 250°C (482°F) for standard applications; higher for specialized versions
PILC (Paper-Insulated Lead-Covered) Underground CablesUp to 70°C (158°F) for standard applications
PVC (Polyvinyl Chloride) Underground CablesUp to 70°C (158°F) for general-purpose PVC insulation; up to 90°C (194°F) for heat-resistant variants
HDPE (High-Density Polyethylene) Underground CablesUp to 75°C (167°F) to 90°C (194°F) depending on specific formulation

भूमिगत केबल के फायदे और नुकसान

भूमिगत केबलों के लाभ

  • भूमिगत केबल जमीन के ऊपर दिखाई नहीं देते हैं, जो स्वच्छ और सुन्दर लगता है
  • भूमिगत केबलों पर वातावरण का कम प्रभाव पड़ता है, जिससे हर ऋतू में निरंतरता बनी रहती है
  • भूमिगत केबल कम विद्युत चुम्बकीय इंटरफ़ेस प्रदर्शित करते हैं, जो उन्हें आवासीय पड़ोस जैसे संवेदनशील क्षेत्रों के लिए उपयुक्त बनाते हैं।
  • भूमिगत केबल तूफान, तेज़ हवाओं और बर्फ जमाव जैसे मौसम संबंधी व्यवधानों के प्रति कम संवेदनशील होते हैं, जिससे विश्वसनीयता बढ़ जाती है।
  • भूमिगत केबलों पर आकस्मिक संपर्क कम होता है, जिससे गिरी हुई लाइनों के कारण क्षति का खतरा कम हो जाता है।
  • भूमिगत केबलों को आम तौर पर ओवरहेड लाइनों की तुलना में कम रखरखाव की आवश्यकता होती है, क्योंकि वे पर्यावरणीय तत्वों के संपर्क में कम आते हैं।
  • भूमिगत केबलों का जीवनकाल ओवरहेड लाइनों की तुलना में अधिक हो सकता है क्योंकि वे वातावरण जटिलता से सुरक्षित रहते हैं।
  • ओवरहेड लाइनों की तुलना में भूमिगत केबलों में आमतौर पर कम ट्रांसमिशन हानि होती है, जिससे अधिक कुशल बिजली ट्रांसमिशन होता है।
  • सीमित स्थान वाले शहरी क्षेत्रों में भूमिगत केबल फायदेमंद हो सकते हैं, जिससे भूमि उपयोग पर संघर्ष कम हो सकता है।

भूमिगत केबल के नुकसान

  • खुदाई और विशेष उपकरणों की आवश्यकता के कारण भूमिगत केबलों की स्थापना ओवरहेड लाइनों की तुलना में अधिक महंगी है।
  • भूमिगत केबलों में खराबी तक पहुंचना और उसकी मरम्मत करना चुनौतीपूर्ण हो सकता है, जिससे रखरखाव के दौरान लंबे समय तक काम करना पड़ता है।
  • ओवरहेड लाइनों की तुलना में भूमिगत केबल सिस्टम का विस्तार या उन्नयन अधिक कठिन और महंगा हो सकता है।
  • भूमिगत केबलों में गर्मी निकासी की समस्या हो सकती है, विशेष रूप से घनी आबादी वाले क्षेत्रों में, जिससे कार्यक्षमता कम हो सकती है।
  • भूमिगत केबलों में दोषों की पहचान करने और उनकी मरम्मत करने में ओवरहेड लाइनों में समस्याओं को ठीक करने की तुलना में अधिक समय लग सकता है, जिससे सिस्टम का डाउनटाइम प्रभावित होता है।
  • ओवरहेड लाइनों की तुलना में भूमिगत केबलों की निगरानी और दोषों का पता लगाना अधिक चुनौतीपूर्ण हो सकता है।
  • भूमिगत केबल स्थापित करने के लिए आवश्यक खुदाई से पर्यावरणीय प्रभाव पड़ सकता है और स्थानीय पारिस्थितिकी तंत्र बाधित हो सकता है।
  • भूमिगत केबलों को पानी से क्षति होने की आशंका होती है, जो तब हो सकती है जब केबल इन्सुलेशन उत्तम प्रकार का न किया गया हो।
  • Motor Star and Delta Connection Difference and Function in Hindi
    हम किसी भी थ्री-फेज मोटर का कनेक्शन करते हैं तो हम दो तरीके से करते हैं या तो हम उसको स्टार कनेक्शन Star Connecion में जोड़ेंगे या फिर हम उसको डेल्टा कनेक्शन Delta Connection में जोड़ेंगे आज इस पोस्ट के अंदर मैं आपको यही डाउट क्लियर करूंगा कि हम मोटर का स्टार कनेक्शन कब करते[…]
  • Underground Cable Classification and Types
    आज के पोस्ट में हम जानेगे की केबल कितने प्रकार के होते है और उनका क्या प्रयोग है और भूमिगत केबल के लाभ और हानि के बारे में भी जानेगे भूमिगत केबल किसे कहते है जिन केबल को जमीन के नीचे स्थापित किया जाता है उन्हें भूमिगत केबल कहा जाता है , जिसका उपयोग बिजली[…]
  • PNP Transistor क्या है? व्याख्या, कार्य सिद्धांत
    ट्रांजिस्टर इलेक्ट्रॉनिक सर्किट में मूलभूत उपकरण हैं, जो प्रवर्धन, स्विचिंग और सिग्नल मॉड्यूलेशन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। विभिन्न प्रकार के ट्रांजिस्टर के बीच, पीएनपी ट्रांजिस्टर का व्यापक रूप से इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों और सर्किट में उपयोग किया जाता है। इस पोस्ट में, हम पीएनपी ट्रांजिस्टर की मूल बातें, उनकी संरचना, कार्य सिद्धांत और सामान्य अनुप्रयोगों[…]
  • वोल्टेज ड्रॉप फॉर्मूला – परिभाषा, समीकरण, उदाहरण
    विद्युत प्रणालियों में वोल्टेज ड्रॉप (Voltage Drop in Hindi) एक महत्वपूर्ण तथ्य है जिसे अक्सर नजरअंदाज कर दिया जाता है। यह वोल्टेज में कमी को दर्शाता करता है जो तब होता है जब विद्युत धारा अपने अंतर्निहित प्रतिरोध के कारण एक कंडक्टर (तार या केबल) के माध्यम से गुजरती है। वोल्टेज में गिरावट सामान्य है,[…]
  • How to Test PNP and NPN Transistors
    मल्टीमीटर का उपयोग करके NPN (Negative-Positive-Negative) और PNP(Positive-Negative-Postivie) ट्रांजिस्टर का परीक्षण किया जा सकता है। दोनों प्रकार के ट्रांजिस्टर के परीक्षण के लिए सामान्य चरण यहां दिए गए हैं: NPN ट्रांजिस्टर क्या होता है? एक एनपीएन (नकारात्मक-सकारात्मक-नकारात्मक) ट्रांजिस्टर द्विध्रुवी जंक्शन ट्रांजिस्टर (बीजेटी) के दो मुख्य प्रकारों में से एक है, दूसरा पीएनपी (सकारात्मक-नकारात्मक-सकारात्मक) है। ट्रांजिस्टर[…]
Scroll to top